May 20, 2024

श्रद्धालुओं एवं छठव्रतियों के लिए घाटों पर उपलब्ध रहेगी सभी सुविधाएँ; तेजी से तैयारी चल रही हैः आयुक्त श्री कुमार रवि

1 min read

आयुक्त ने डीएम, एसएसपी, नगर आयुक्त एवं अन्य वरीय पदाधिकारियों के साथ विभिन्न छठ घाटों का किया पैदल निरीक्षण

विधि-व्यवस्था संधारण सरकार की सर्वाेच्च प्राथमिकता; उत्कृष्ट भीड़-प्रबंधन, सुदृढ़ सुरक्षा-व्यवस्था एवं सुचारू यातायात प्रबंधन के लिए सभी पदाधिकारी सजग एवं तत्पर रहेंः आयुक्त ने दिया निदेश

अंतर्विभागीय समन्वय की आवश्यकता पर आयुक्त ने दिया बल

पटना, शनिवार, दिनांक 11 नवम्बर, 2023ः आयुक्त, पटना प्रमंडल, पटना श्री कुमार रवि द्वारा आज जिलाधिकारी, पटना डॉ. चन्द्रशेखर सिंह; वरीय पुलिस अधीक्षक, पटना श्री राजीव मिश्रा; नगर आयुक्त, पटना नगर निगम श्री अनिमेष कुमार पराशर; पुलिस अधीक्षक, यातायात श्री पूरन कुमार झा एवं अन्य वरीय पदाधिकारियों के साथ छठ घाटों का पैदल निरीक्षण किया गया तथा छठ महापर्व, 2023 की तैयारियों का जायजा लिया गया। आयुक्त द्वारा काली घाट से गायघाट तक सभी घाटों का निरीक्षण किया गया। अनुमंडल पदाधिकारी पटना सदर, अनुमंडल पदाधिकारी, पटना सिटी, घाटों पर संबंधित सेक्टर पदाधिकारी, सेक्टर पुलिस पदाधिकारी एवं टीम के अन्य सदस्य उपस्थित थे।

प्रातः 7.00 बजे काली घाट से प्रारंभ कर गायघाट तक करीब 28 घाटों का लगभग सात किलोमीटर तीन घंटा तक उन्होंने एक-एक कर पैदल भ्रमण किया तथा गंगा का जल-स्तर, घाट निर्माण, एप्रोच रोड, साफ-सफाई, सुरक्षा-व्यवस्था, भीड़-प्रबंधन, यातायात प्रबंधन सहित सभी बिन्दुओं पर उन्होंने तैयारियों एवं योजनाओं का जायजा लिया तथा आवश्यक निदेश दिया। वंशी घाट, काली घाट, पटना कॉलेज घाट, कृष्णा घाट, गांधी घाट, बहरवा घाट, पटना लॉ कॉलेज घाट, रानी घाट, बीएन राय घाट, गुलबी घाट, बालू घाट, घघा घाट, रौशन घाट, चौधरी टोला घाट, पथरी घाट, कदम घाट, घसियारी घाट, नरकट घाट, लौहरबा घाट, हनुमान घाट, गोसाई घाट, राजा घाट, करनालगंज-जुडिशियल एकेडमी घाट, गायघाट सहित सभी घाटों पर पैदल चलकर आयुक्त ने घाटों की वर्तमान स्थिति, तैयारी तथा प्रबंधन का अवलोकन किया, संरचनाओं को देखा एवं आवश्यक निदेश दिया।

डीएम डॉ. सिंह, एसएसपी श्री मिश्रा एवं नगर आयुक्त श्री पराशर ने आयुक्त श्री रवि के संज्ञान में जिला प्रशासन एवं नगर निगम द्वारा की जा रही तैयारियों को लाया। अधिकारियों ने कहा कि सभी सेक्टर पदाधिकारी एवं सेक्टर पुलिस पदाधिकारी घाटों पर मुस्तैद हैं। 24×7 तैयारी की जा रही है। इसे ससमय कर ली जाएगी।

आयुक्त श्री रवि ने कहा कि अभी तक के निरीक्षण से यह स्पष्ट हो गया है कि घाटों की स्थिति अच्छी है। इस बार पिछले वर्ष की तुलना में अनेक अच्छे घाट भी निकले हैं। सभी घाटों पर प्रशासन एवं नगर निगम द्वारा बेहतरीन तैयारी की जा रही है। बैरिकेडिंग भी प्रारंभ हो गया है जो दो दिन में पूरा हो जाएगा। अन्य जो भी छोटे-छोटे बिंदु हैं उसे जिलाधिकारी एवं वरीय पुलिस अधीक्षक के नेतृत्व में अनुमंडल पदाधिकारियों तथा अनुमंडल पुलिस अधिकारियों द्वारा समाधान किया जा रहा है। आयुक्त श्री रवि द्वारा सभी अनुमंडल पदाधिकारियों तथा अनुमंडल पुलिस पदाधिकारियों को निर्देश दिया गया कि वे स्वयं संयुक्त रूप से घाटों पर आने के रास्ते का निरीक्षण करें तथा यह सुनिश्चित करें कि रास्ते में किसी भी तरह का कोई व्यवधान यथा गड्ढा, पोल, अतिक्रमण आदि न हो। सायं काल के बाद भी निरीक्षण करें। स्थानीय व्यक्तियों से बात करें।पूजा समितियों सहित सभी स्टेकहोल्डर्स से सुदृढ़ समन्वय तथा सार्थक संवाद क़ायम रखें। उन्होंने कहा कि घाटों पर आने का सम्पर्क पथ पूरी तरह से अवरोधमुक्त होना चाहिए ताकि छठ महापर्व पूर्णतः सुविधायुक्त एवं दुर्घटनामुक्त ढंग से सफलतापूर्वक आयोजित की जा सके।

जल संसाधन विभाग के अधीक्षण अभियंता द्वारा बताया गया कि विगत वर्ष की तुलना में इस वर्ष गंगा नदी में पानी का स्तर कम है। विगत वर्ष दीघा घाट में छठ पर्व के दिन 30 अक्टूबर, 2022 को जल-स्तर 47.51 मीटर तथा 31 अक्टूबर, 2022 को 47.37 मीटर था। इस वर्ष छठ के समय तक जल-स्तर लगभग 43 मीटर रहने की संभावना है। आयुक्त द्वारा स्वयं घाट पर पानी के स्तर को देखा गया तथा तदनुसार बैरिकेडिंग का निदेश दिया गया। आयुक्त ने कहा कि सभी मानकों, आवश्यकताओं एवं अन्य बिंदुओं को ध्यान में रखते हुए प्रशासन द्वारा सारी तैयारी की जा रही है। उन्होंने अधिकारियों को निदेश दिया कि सभी घाट पर सुरक्षात्मक बैरिकेडिंग एवं साइनेज रहना चाहिए। बैरिकेडिंग मानकों के अनुरूप रखना सुनिश्चित करें। खतरनाक घाटों को लाल रंग के कपड़ा से घेर दें ताकि श्रद्धालु उधर न जाएं। सभी घाटों पर बड़े-बड़े अक्षरों में घाटों का नाम एवं वाच टावरों तथा अन्य सुरक्षात्मक संरचनाओं का नम्बरिंग करने का निदेश दिया गया।

आयुक्त श्री रवि ने कहा कि इस बार काफ़ी अच्छे-अच्छे घाट हैं। छठव्रती एवं श्रद्धालु अपने-अपने नज़दीकतम छठ घाटों का प्रयोग करें। प्रशासन द्वारा सभी प्रकार की सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है। छठव्रतियों की सुविधा एवं सुरक्षा के मद्देनजर प्रशासन द्वारा वैकल्पिक व्यवस्था भी की जा रही है। नगर निगम एवं प्रशासन द्वारा तालाबों में भी छठव्रतियों के लिए प्रबंध किया जा रहा है।

आयुक्त श्री रवि ने पुलिस अधीक्षक, यातायात एवं अन्य अधिकारियों को एनआईटी मोड़ से गांधी घाट तक सुचारु ट्रैफ़िक के लिए विशेष डेपुटेशन करने का निर्देश दिया।

आयुक्त श्री रवि ने निरीक्षण में पाया कि पथरी घाट पर अच्छा कार्य किया जा रहा है। उन्होंने ऐसा ही मॉडल कार्य नज़दीक के घाटों पर भी करने को कहा। आयुक्त श्री रवि ने सभी अधिकारियों को विशेष अभिरूचि लेते हुए सारी व्यवस्था दुरुस्त रखने का निर्देश दिया। घाटों पर अवस्थित हाई-मास्ट लाईट एवं स्ट्रीट लाईट को क्रियाशील रखने का निदेश दिया गया। उन्होंने कहा कि नाली को स्लैब से ढंके। गड्ढों की भराई तथा आवश्यकतानुसार पेड़ों की छंटाई करें। घाट की सीढ़ियों पर जमी मिट्टी को तेजी से हटाएं, घाटों की रेलिंग को सुदृढ़ रखें। आयुक्त द्वारा घाटों पर बने शौचालयों में पानी आने की स्थिति की जांच की गई। कहीं-कहीं पानी की आपूर्ति बाधित थी। आयुक्त द्वारा निर्देश दिया गया कि शौचालय के नल में पानी अवश्य आना चाहिए। चेंजिंग रूम भी अच्छी तरह क्रियाशील रहना चाहिए। हनुमान घाट से कीचड़ हटाने का निदेश दिया गया।

आयुक्त द्वारा नगर निगम के अधिकारियों को रानी घाट, घघा घाट एवं रौशन घाट पर विशेष ध्यान देने का निदेश दिया गया। घाटों को निर्धारित मानकों के अनुरूप तैयार करने का निदेश दिया। सीढ़ियों को साफ़ करने, दलदल तथा सिल्ट हटाने का निदेश दिया। संवेदकों एवं एजेंसियों द्वारा कार्य में तेजी लाने का निर्देश दिया गया अन्यथा संवेदकों के विरुद्ध कार्य में शिथिलता बरतने के आरोप में प्राथमिकी दर्ज करने एवं भुगतान में कटौती करने का तथा दोषी अभियंताओं एवं अधिकारियों के विरुद्ध कार्रवाई करने का निर्देश दिया गया।

आयुक्त श्री रवि द्वारा एनडीआरएफ एवं एसडीआरएफ टीम की तैनाती करने के साथ सम्पूर्ण आपदा प्रबंधन तंत्र को 24×7 क्रियाशील रखने का निदेश दिया गया।

आयुक्त श्री रवि ने कहा कि सेक्टर पदाधिकारियों के 21 दल द्वारा 100 से अधिक घाटों पर लगातार कैम्प कर सभी व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है। घाटों पर साफ-सफाई की अच्छी स्थिति रहेगी। एप्रोच पथ को सुगम एवं अवरोध मुक्त रखा जाएगा। घाटों पर प्रकाश की व्यवस्था अच्छी रहेगी। खतरनाक घाटों पर आम जनता का आना प्रतिबंधित रहेगा।

आयुक्त श्री रवि ने कहा कि छठव्रतियों एवं श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए प्रशासन सजग, तत्पर एवं प्रतिबद्ध है। उत्कृष्ट भीड़-प्रबंधन, सुदृढ़ सुरक्षा व्यवस्था तथा सुचारू यातायात-प्रबंधन सुनिश्चित किया जाएगा। घाटों पर सीसीटीवी कैमरा से निगरानी की जाएगी। सभी घाटों पर वाच टावर एवं नियत्रंण कक्ष की स्थापना की जा रही है। मजिस्ट्रेट एवं फोर्स का डेपुटेशन रहेगा। एसडीआरएफ एवं एनडीआरएफ के साथ-साथ रिवर पेट्रोलिंग भी क्रियाशील रहेगा। मेडिकल टीम भी तैनात रहेगा।

आयुक्त श्री रवि ने सेक्टर पदाधिकारियों को कार्यकारी एजेसियों से योजनाबद्ध एवं समयबद्ध ढंग से कार्य कराने का निदेश दिया। उन्होंने अधिकारियों को पूजा समितियों से समन्वय स्थापित कर आवश्यक प्रबंधन सुनिश्चित करने को कहा।

आयुक्त श्री रवि ने कहा कि छठव्रतियों एवं श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए डेडिकेटेड ट्रैफिक मैनेजमेंट रहेगा।

आयुक्त श्री रवि ने कहा कि छठव्रतियों एवं श्रद्धालुओं की सुविधा के लिए प्रशासन मुस्तैद है। फूलप्रूफ (त्रुटिहीन) व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है।

इस अवसर पर पुलिस अधीक्षक यातायात, अनुमंडल पदाधिकारी पटना सदर, अनुमंडल पदाधिकारी, पटना सिटी, विशिष्ट पदाधिकारी अनुभाजन, संयुक्त आयुक्त-सह-सचिव, क्षेत्रीय परिवहन प्राधिकार पटना प्रमंडल, सिटी मजिस्ट्रेट, अधीक्षण अभियंता जल संसाधन विभाग, कार्यपालक अभियंता पीएचईडी/भवन निर्माण/बुडको, नगर कार्यपालक पदाधिकारी तथा अन्य भी उपस्थित थे।

डीपीआरओ, पटना

आयुक्त कार्यालय, पटना प्रमण्डल, पटना
(जन-सम्पर्क शाखा)

अकबर ईमाम एडिटर ईन चीफ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed