February 21, 2024

घाना की बैविक यूनिवर्सिटी ने जेसीआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष को डॉक्टरेट की मानद उपाधि से नवाजा गया

1 min read

राष्ट्रीय अध्यक्ष को मानद उपाधि मिलने पर संगठन ने दी शुभकामनाएं

समाज सेवा और ईमानदार एवं स्वच्छ पत्रकारिता के लिए दिया गया सम्मान

राष्ट्रीय संयोजक ने कहा स्वच्छ एवं इमानदार पत्रकारिता ही बन सकती है पत्रकारों की तारनहार
पत्रकारिता लोकतंत्र का चौथा और मजबूत स्तंभ है। हम ऐसा इसलिए कह सकते हैं क्योंकि हमने देश की आजादी में उतना ही योगदान दिया है जितना हमारे देश के वीर सपूतों ने ! क्योंकि जब हम आजादी की लड़ाई लड़ रहे थे तब इसी पत्रकारिता ने स्वतंत्रता के दीवानों के दिल में आग भर कर रख दिया था और जिसके चलते हमारे वीरों ने, आजादी के दीवानों ने एक क्रांति पैदा कर दी और अंग्रेजी सरकार की नीव हिला कर रख दी परिणाम स्वरूप उन्हें भागना पड़ा और हम आजाद हो गए।


परंतु हमारे देश के हुक्मरानों के साथ-साथ पत्रकारिता का स्तर भी निरंतर गिरता चला गया और आज पत्रकारिता के विकृत रूप को देखकर ऐसा लगता ही नहीं है कि कभी आजादी की लड़ाई में हमारा सराहनीय योगदान रहा होगा।
पत्रकारिता ना कभी किसी की मोहताज थी और ना है आज भी मां सरस्वती के नालायक बेटे जिन्होंने चंद कागज के टुकड़ों के लिए अपना ईमान बेच कर मां सरस्वती के आंचल को जहां तार-तार किया है वही स्वच्छ और इमानदार पत्रकारिता करते हुए मां सरस्वती के सपूतों ने मां सरस्वती का सिर भी गर्व से ऊंचा कर दिया है और ढेर सारी मिसाल भी कायम की है।


इन्हीं में से एक है स्वच्छ एवं निष्पक्ष पत्रकारिता के लिए डॉक्टरेट की उपाधि से नवाजे गए जर्नलिस्ट काउंसिल आफ इंडिया के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुराग सक्सेना।
वैसे तो देश में तमाम सारे संगठन हैं, और उनकी अपनी विचारधाराएं हैं, जिनके आधार पर वह कार्य करते हैं परंतु जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंडिया ने अपने ईमानदार एवं कृत संकल्प विचारधाराओं पर चलते हुए पत्रकारों के लिए एक नया आयाम स्थापित किया है आज डिजिटल मीडिया प्रिंट मीडिया और पोर्टल के लिए आवाज उठाने वाली एक मात्र संस्था के रूप में जर्नलिस्ट काउंसिल आफ इंडिया ने एक नया कीर्तिमान स्थापित किया है। यही कारण है कि अब सरकार पत्रकारों की बात को सुनने लगी है हम उम्मीद करते हैं कि हम इसी पथ पर चलते हुए पत्रकारों के लिए कुछ बेहतर कर पाएंगे और उनके हक और हुकूक की लड़ाई लड़कर उनका खोया हुआ सम्मान वापस दिला पाएंगे।

कदम चूम लेती है खुद आकर मंजिल,
मुसाफिर अगर अपनी हिम्मत न हारे।

इन्हीं पंक्तियों को सत्य का अमलीजामा पहनाया है जेसीआई के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनूप सक्सेना ने।आज जर्नलिस्ट काउंसिल ऑफ इंडिया ने एक और नया कीर्तिमान स्थापित किया है जब संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष को कांस्टीट्यूशन क्लब आफ इंडिया दिल्ली में दक्षिण अफ्रीका की बैविक यूनिवर्सिटी घाना ने एक शानदार कार्यक्रम के दौरान, जिसमें हमारे राष्ट्रीय अध्यक्ष मुख्य अतिथि के रुप में सम्मिलित हुए थे, उन्हें समाज सेवा एवं ईमानदार एवं स्वस्थ पत्रकारिता के लिए डॉक्टरेट की उपाधि से नवाजा है। राष्ट्रीय अध्यक्ष को यह सम्मान घाना के बैविक विश्वविद्यालय के कुलपति डॉक्टर फेलिक्स ओफुक्सु द्वारा सौंपा गया।


इस अवसर पर संस्था के कार्यकर्ताओं के साथ साथ पदाधिकारियों द्वारा भी संस्था के राष्ट्रीय अध्यक्ष अनुराग सक्सेना को ढेर सारी शुभकामनाएं प्रेषित की गई है।
अपनी शुभकामनाएं प्रेषित करते हुए संस्था के राष्ट्रीय संयोजक डॉ आर सी श्रीवास्तव ने कहा है कि आपकी यह उपलब्धि संस्था के लिए एक आदर्श स्थापित करेगा जिससे लोग स्वस्थ एवं निष्पक्ष पत्रकारिता की तरफ अग्रसर होंगे हम आपके दीर्घायु होने की प्रार्थना करते हैं ताकि संगठन को आपका संरक्षण एवं मार्गदर्शन सदैव मिलता रहे।

अकबर ईमाम एडिटर इन चीफ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

You may have missed